Type Here to Get Search Results !

बरेली के हिमांशु गुप्ता बने आईएएस, लगातार तीन बार सिविल सेवा परीक्षा कर चुके है उत्तीर्ण | Success Story |Hmaratalent

एक छोटे कस्बे जिसका नाम सिरौली है, के रहने वाले है हिमांशु गुप्ता ने एक बार फिर सिविल सेवा में 139वीं  रैंक हासिल करके इतिहास रच दिया है, अपनी दिन रात की मेहनत के बलबूते हिमांशु गुप्ता ने आईएएस जैसे बड़े शिखर को हासिल करके न सिर्फ अपना नाम रोशन किया बल्कि अपने माँ बाप और पूरे मंडल का नाम रोशन किया है, फिलहाल हिमांशु गुप्ता आईपीएस की ट्रेनिंग की वजह से हैदराबाद है इसलिए हिमाँशु गुप्ता ने वीडियो कॉल के माध्यम से सिरौली में जनरल स्टोर चलाने वाले अपने पिता और माँ का आशीर्वाद लिया। 

आपको बता दे हिमांशु गुप्ता साल 2018 में सिविल सेवा में 304 वी रैंक हासिल कर चुके है लेकिन रैंक कम होने की वजह से हिमांशु गुप्ता ने  IRTS ज्वाइन नहीं किया , लेकिन उनका सपना आईएएस बनने का था इसलिए इन्होने दुबारा सिविल सेवा में आवेदन किया लेकिन साल 2019 में भी  558 वी रैक हासिल कर पाए जिसके कारणवश हिमांशु गुप्ता को आईपीएस ज्वाइन करने का फैसला लेना पड़ा जिसकी ट्रैनिंग अभी हैदराबाद में चल रही है लेकिन आईपीएस की ट्रेनिंग के दौरान भी हिमांशु गुप्ता ने सिविल सेवा के लिए आवेदन किया और अपनी दुगुनी मेंहनत से  2020 में 139वी रैंक हासिल करके पूरे प्रदेश में परचम लहरा दिया।


हिमांशु गुप्ता एक मिडल क्लास फैमिली से आते है, इनके पिताजी एक चाय का छोटा स्टॉल लगाया करते थे उसके बाद इनके पिताजी ने घर में ही जनरल स्टोर खोल लिया और अक्सर हिमांशु गुप्ता भी अपने पिताजी की सहायता करते है। हिमांशु गुप्ता ने अपनी इंटर तक की पढ़ाई आँवला के बाल विद्यापीठ से पूूूरी की, ये पहले ही देश की सेवा करने का एक मजबूत सपना देख चुके थे जो बेहद संघर्ष भरा था इसीलिए इन्होंने 12th के बाद सरकारी विश्वविद्यालय के प्रवेश परीक्षा दिए और बिना किसी ट्यूशन के सारे प्रवेश परीक्षा उत्तीरण करने के बाद दिल्ली विश्वविद्यालय के हिन्दू कोलेज में प्रवेश करके हिन्दू कॉलेज से B.Sc और M.Sc की डिग्री हासिल की।
आपको बता दे हिमांशु गुप्ता को M.Sc में GOLD देकर सम्मानित किया गया।

जब हिमांशु गुप्ता अपने इंटर की पढ़ाई कर रहे थे तो इनको अपने विद्यालय पहुंचने के लिए 30 किलोमीटर लंबा सफर करना पड़ता था विद्यालय से आकर अपने पिताजी के साथ दुकान पर बैठकर उनकी सहायता करते थे, फिर भी हिमांशु गुप्ता ने हिम्मत नहीं छोड़ी और अपनी पढ़ाई पर ध्यान देते रहे।

जब इन्होने 12th को अच्छे नंबरों से पास करके हिंदू कॉलेज में प्रवेश लिया तो इनके सामने सबसे बड़ी समस्या थी पैसों को लेकर, इनके पास इतने पैसे नहीं थे कि ये UPSC की तैयारी कर सके और अपने सपने को पूरा कर सके। इन्होंने घर घर जाकर कोचिंग देने शुरू कर दिया इसके साथ साथ इन्होंने BLOGGING पर भी काम किया जिसके माध्यम से इनके पास काफी पैसे आने लगे उसके अलावा छात्रवृत्ति के माध्यम से भी इनको काफी राहत मिली कॉचिंग की वजह से ये अपनी तैयारी पर सही तरीके ध्यान नहीं दे पा रहे थे

जब हिमांशु गुप्ता ने B.Sc और M.Sc की डिग्री अच्छे नंबरों से हासिल करी तो इनके आत्मविश्वास को एक अलग मजबूती मिली। इसीलिए इन्होंने GATE की परीक्षा में भी TOP किया।

2019 में 558 वी रैक

अब इनको अपनी UPSC की तैयारी पर पूरी तरह से ध्यान देना था लेकिन दुबारा से इनके सामने पैसों की कमी को लेकर समस्या बनी रही और ये घर से पैसे नहीं मांगना चाहते थे क्योंकि घर भी परेशानियों का सामना कर रहा था।

इसीलिए इन्होंने एक बड़ा क़दम उठाने का फैसला लिया और M.Phil करने के लिए फॉर्म सबमिट कर दिया क्योंकि ये पहले ही टॉप स्टूडेंट्स में आते थे और GATE में टॉप भी कर चुके थे इसलिए इनको विश्वविद्यालय की तरफ से फैलोशिप मिलने लगी जिससे इनको बेहद आसानी हुई, लेकिन M.Phil और UPSC की तैयारी एक साथ करना इनके लिए बेहद बड़ा टास्क था इसीलिए इन्होंने शेड्यूल बनाया और अपना आधा आधा समय दोनों को दिया और दोनों का परिणाम एक ही दिन आया।

लेकिन रैंक कम होने की वजह से हिमांशु गुप्ता ने खुद IRTS ज्वाइन नहीं किया और दुबारा से सिविल सेवा की परीक्षा के लिए आवेदन कर दिया जिसका परिणाम IPS के पद के रूप में आया जिसको हिमांशु गुप्ता ने स्वीकार किया और ट्रेनिंग के लिए हैदराबाद रवाना हो गए लेकिन IAS का भूत सर पर सवार था इसलिए IPS की ट्रेनिंग के दौरान भी सिविल सेवा की परीक्षा के लिए आवेदन कर दिया और परिणाम में IAS के पद को ख़ुशी ख़ुशी स्वीकार किया। 

हिमांशु गुप्ता के IAS बनने की खबर सुनकर लोगो ने अपनी ख़ुशी का इज़हार सोशल मीडिया पर पोस्ट करके ज़ाहिर किया जिसमे हिमांशु गुप्ता को सिरौली और पूरे मंडल के लिए एक आइडियल बताया साथ ही साथ हिमांशु गुप्ता के पिता और माँ को दुआओ से नवाज़ा। 

Post a Comment

2 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. बहुत खूब हिमांशु महोदय बहुत खूब 😊

    ReplyDelete

Please give your feeback